(सुनन्दा पुष्कर की मौत पर लिखी 18 जनवरी 2014 की कविता)

मानक

(सुनन्दा पुष्कर की मौत पर लिखी 18 जनवरी 2014 की कविता)
जिसका सच अब सामने आ रहा है रमेश यायावर
    समाचार
एक समाचार ने सुबह
आज झकझोर डाला
यह मेरे भारत में –
कैसा दिन है काला |
यह कैसी है माया
क्या हुआ छाया ?
अपराधी कोई भी हो ,
अब बच नही पायेगा
किस तरह प्यार फिर
धरा पर गुनगुनायेगा-
फिर सदमे में
सारा हीं देश
यही है भारतीय
परम्परा और वेष|
मूंगा ओए माला
यह क्या डाला ?
मृतक आत्मा को
शांति प्राप्त हो-
मेरे भारत हमारे भारत
रमेश यायावर
9.40 सुबह 18.01 2014

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s