जमाने का सच

मानक

जमाने का सच

कहीं आना ना जाना

केवल भूली बिसरी

यादो को बताना

उस जमाने का सच

इस जमाने को दिखाना है |

बहकना ना बहकाना

महकना ना महकाना

केवल जना, सो जनाना

उस जमाने का सच

इस जमाने को दिखाना है |

पढ़ा ना पढ़ाना

बढ़ा ना बढ़ाना

अपनी समझ से समझाना

उस जमाने का सच

इस जमाने को दिखाना है |

गुण से गुनगुनाना

फूलना ना फुलाना

सारी धरा हीं खजाना है

बस ,उस जमाने का सच

इस जमाने को दिखाना है |

रमेश यायावर 28-12-14

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s